Menu Home

Sach

सच-

एक सच है सच हमारा, दूसरा जो सब में बाँट रहे हैं,
एक सच दिल में दबा कर, दूसरे से बाहर झांक रहे हैं।

जीवन भी है एक सत्य और मौत दूसरा, जिस से हर पल भाग रहे हैं।
एक हमारा व्यक्तित्व सत्य है और दूसरा अस्तित्व जो हर पल छांट रहे हैं।

खुद से रिश्ते का सच भुला बैठे है, और दुसरों से रिश्तों में सच जाँच रहे हैं,
एक सच है ये सारी सृष्टी और दूसरा विनाश जो आजकल भांप रहे हैं।

प्रत्यक्ष है सत्य, फिर भी न जाने हम कौनसे सच से भाग रहे हैं।

Categories: human emotions life love social issues truth wisdom

Tagged as:

myunsaidthoughts

An ambitious woman with vision. i wanna see this earth full of happiness and love all around which is about to vanished from this world. trying to restore happiness by spreading my thoughts and views with people and by talking to more and more people about this.

Leave a Reply

Fill in your details below or click an icon to log in:

WordPress.com Logo

You are commenting using your WordPress.com account. Log Out /  Change )

Google photo

You are commenting using your Google account. Log Out /  Change )

Twitter picture

You are commenting using your Twitter account. Log Out /  Change )

Facebook photo

You are commenting using your Facebook account. Log Out /  Change )

Connecting to %s

%d bloggers like this: